Baba Amte Biography in Hindi (बाबा आमटे के बारे में पूरी जानकारी)

Baba Amte Biography in Hindi बाबा आमटे देश के प्रख्यात और सम्माननीय समजकर्ता थे और बाबा आमटे का पूरा नाम डॉ॰ मुरलीधर देवीदास आमटे था। बाबा आमटे के बारे में सम्पूर्ण जानकारी हम इस लेख में आपसे साझा करेंगे तो इस लेख को पूरा जरूर पढ़ें।

Baba Amte Biography

बाबा आमटे का प्रारंभिक जीवन (Baba Amte Initial Life in Hindi)

बाबा आमटे का जन्म महाराष्ट्र में स्थित वर्धा जिले में हिंगणघाट गाँव में 26 दिसंबर 1914 को हुआ था। उनके पिता देवीदास हरबाजी आमटे शासकीय सेवा में लेखपाल थे और वे जमींदार भी थे। बाबा आमटे को विरासत में मिली जमींदारी के कारण उनका जीवन बहुत ही थाट-वाट से बीता था। बाबा ने अपनी प्रारंभिक पढ़ाई नागपुर के मिशन स्कूल में किया और इसके बाद नागपुर विश्विद्यालय से कानूनी पढ़ाई की।

कार्यक्षेत्र

एक दिन बाबा ने एक कुष्ट रोगी को बारिश में भीगते हुए देखा उसकी मदद के लिए कोई भी आगे नही आह रहा था उसी वक्त बाबा ने निर्णय किया कि वे उस कुष्ट रोगी की सहायता करेंगे तो बाबा ने उस कुष्ट रोगी को अपने घर लेकर गए और उनकी मदद की। बाबा आमटे ने जीवनभर कुष्ठरोगियों, और जनजातियों और किसानों के हित में कार्य किया करते थे।

आनन्दवन (Aanandvan)

आनन्दवन बाबा की सबसे बड़ी उपलब्धि थी उन्होंने अछुतो के लिए आनन्दवन आश्रम को बनाया। कम खर्च से बने इस आश्रम में आज धन संपदा अधिक मात्रा में है।

साहित्यिक कृतियाँ (Literary works)

बाबा ने अपने जीवनकाल में दो साहित्यिक रचनाएँ लिखी।

1. ज्वाला आणि फुले
2. उज्ज्वल उद्यासाठी

पुरस्कार और सम्मान (Baba Amte Awards)

  • अमेरिका का डेमियन डट्टन पुरस्कार 1983 में दिया गया।
  • एशिया का नोबल पुरस्कार 1985 में दिया गया।
  • घनश्यामदास बिड़ला अंतरराष्ट्रीय सम्मान 1988 में दिया गया।
  • संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार सम्मान 1988 में दिया गया।
  • 1990 में 8,84,000 अमेरिकी डॉलर का टेम्पलटन पुरस्कार दिया गया।
  • पर्यावरण के लिए किए गए योगदान के लिए 1991 में ग्लोबल 500 संयुक्त राष्ट्र सम्मान दिया गया।
  • 1985-86 में पूना विश्वविद्यालय ने डी-लिट उपाधि दी।
  • 1980 में नागपुर विश्वविद्यालय ने डी-लिट उपाधि दी।
  • 1979 में जमनालाल बजाज सम्मान दिया गया।
  • 2004 के महाराष्ट्र भूषण सम्मान देने की घोषणा को गई और महाराष्ट्र सरकार के यह सर्वोच्च सम्मान उन्हें एक मई 2005 में आनंदवन में दिया।
  • 1999 में गाँधी शांति पुरस्कार दिया गया।

बाबा आमटे निधन (Baba Aamte Death)

बाबा आमटे का निधन 94 वर्ष की आयु में 9 फरवरी 2008 को हुआ था।

आपको बाबा आमटे का जीवन परिचय के बारे में जानकर कैसा लगा हमे कमैंट्स में जरूर बताए और आपको यह जानकारी पसंद आए तो अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
error: Content is protected !!