Bina Ankho Wali Chudail Se Meine Panga Le Liya

1

Darawni Chudail Se Mera Samna Huya Aur Meine Dat Kar Uss Darawni Chudail Ka Samna Kiya Uss Bhayanak Hadse Ka Samna Mene Bahut Himmat Se Kiya.

Bina Ankho Wali Chudail Se Meine Panga Le Liya

Mera name sweta singh hai aur mein abhi job kar rahi hu.Aaj mein aap sab ko ek bahut hi bichitra ghatna batane wali hu jo mere sath real life mein ghatit ho chuka hai.Yeh ghatna bahut hi bhayaanak thaa par mere sujh-bujh ke chalte aaj mein sahi salamat hu toh mein apko puri kahani batane wali toh aap story ka anand le aur inn parishtithiyo ke liye hamesa taiyaar rahe.

मेरा नाम स्वेता सिंह है और मैं अभी जॉब कर रही हूँ।आज मै आप सब को एक बहुत ही  विचित्र घटना बताने वाली हूँ जो मेरे साथ रियल लाइफ में घटित हो चूका है।यह घटना बहुत ही भयानक था पर मेरे सूझ-बुझ के चलते आज में सही सलामत हूँ तो मैं आपको पूरी कहानी बताने वाली तो आप स्टोरी का आनन्द ले और इन् परिस्थितियों के लिए  हमेशा तैयार  रहे।

Yeh ghatna mere sath 2 saal pehle ghatit hua thaa jab mein 19 years ki thee.Mein uss samay call center mein job karti thee toh iss job ka koi time fix nahi thaa toh kabhi ghar aate raat ke 1 ya 2 baj hi jate par mein saam ki shift bahut hi kam karti thee.Mere ghar aate-aate bahut raat ho jati toh mom aur dad mujhe yeh kaam chodne ke liye kehte par mein nahi maanti kyuki jitna mein call center par kasm karke kama leti thee utna toh mujhe mere dad to nahi de sakte thee.

यह घटना मेरे साथ २ साल पहले घटित हुआ था जब मैं 19 वर्ष की थी।मैं उस समय कॉल सेंटर में जॉब करती थी तो इस जॉब का कोई टाइम फिक्स नहीं था तो कभी घर आते रात के 1 या 2 बज ही जाते पर मै  शाम की शिफ्ट बहुत ही कम करती थी।मेरे घर आते-आते बहुत रात हो जाती तो माँ और पापा मुझे यह काम   छोड़ने के लिए कहते पर  मैं नहीं  मानती  क्योंकि जितना  मैं कॉल सेंटर पर  कमा करके कमा लेती थी उतना तो मुझे मेरे पापा तो नहीं दे सकते थे।

Mein sunday ka din par kaam nahi karti thee uss din mein sirf aaram karti thee.Uss din mein scooty lekar saam ke 4 baje nikli bajar ke liye aur mujhe kuch kapde aur saman lene thee toh sab kuch kharidari karte-karte saam ke 6 baj hi gaye toh mein ghar ke liye nikal padi toh mein jaise hi road par pahuchi scooty lekar mujhe ghootan si mehsus hone lagi thee jaise meri tabiyat kharab ho.

मैं संडे का दिन पर काम नहीं करती थी उस दिन मैं सिर्फ आराम करती थी।उस दिन मै स्कूटी लेकर साम के 4 बजे निकली बाजार के लिए और मुझे कुछ कपडे और सामान लेने थे तो सब कुछ खरीदारी करते-करते शाम के 6 बज ही गए तो मैं घर के लिए निकल पड़ी तो मैं जैसे ही रोड पर पहुंची स्कूटी लेकर मुझे घुटन सी महसूस होने लगी थी जैसे मेरी तबियत ख़राब हो।

Read More