Bina Ankho Wali Chudail Se Meine Panga Le Liya

1
347

Darawni Chudail Se Mera Samna Huya Aur Meine Dat Kar Uss Darawni Chudail Ka Samna Kiya Uss Bhayanak Hadse Ka Samna Mene Bahut Himmat Se Kiya.

Bina Ankho Wali Chudail Se Meine Panga Le Liya

Mera name sweta singh hai aur mein abhi job kar rahi hu.Aaj mein aap sab ko ek bahut hi bichitra ghatna batane wali hu jo mere sath real life mein ghatit ho chuka hai.Yeh ghatna bahut hi bhayaanak thaa par mere sujh-bujh ke chalte aaj mein sahi salamat hu toh mein apko puri kahani batane wali toh aap story ka anand le aur inn parishtithiyo ke liye hamesa taiyaar rahe.

मेरा नाम स्वेता सिंह है और मैं अभी जॉब कर रही हूँ।आज मै आप सब को एक बहुत ही  विचित्र घटना बताने वाली हूँ जो मेरे साथ रियल लाइफ में घटित हो चूका है।यह घटना बहुत ही भयानक था पर मेरे सूझ-बुझ के चलते आज में सही सलामत हूँ तो मैं आपको पूरी कहानी बताने वाली तो आप स्टोरी का आनन्द ले और इन् परिस्थितियों के लिए  हमेशा तैयार  रहे।

Yeh ghatna mere sath 2 saal pehle ghatit hua thaa jab mein 19 years ki thee.Mein uss samay call center mein job karti thee toh iss job ka koi time fix nahi thaa toh kabhi ghar aate raat ke 1 ya 2 baj hi jate par mein saam ki shift bahut hi kam karti thee.Mere ghar aate-aate bahut raat ho jati toh mom aur dad mujhe yeh kaam chodne ke liye kehte par mein nahi maanti kyuki jitna mein call center par kasm karke kama leti thee utna toh mujhe mere dad to nahi de sakte thee.

यह घटना मेरे साथ २ साल पहले घटित हुआ था जब मैं 19 वर्ष की थी।मैं उस समय कॉल सेंटर में जॉब करती थी तो इस जॉब का कोई टाइम फिक्स नहीं था तो कभी घर आते रात के 1 या 2 बज ही जाते पर मै  शाम की शिफ्ट बहुत ही कम करती थी।मेरे घर आते-आते बहुत रात हो जाती तो माँ और पापा मुझे यह काम   छोड़ने के लिए कहते पर  मैं नहीं  मानती  क्योंकि जितना  मैं कॉल सेंटर पर  कमा करके कमा लेती थी उतना तो मुझे मेरे पापा तो नहीं दे सकते थे।

Mein sunday ka din par kaam nahi karti thee uss din mein sirf aaram karti thee.Uss din mein scooty lekar saam ke 4 baje nikli bajar ke liye aur mujhe kuch kapde aur saman lene thee toh sab kuch kharidari karte-karte saam ke 6 baj hi gaye toh mein ghar ke liye nikal padi toh mein jaise hi road par pahuchi scooty lekar mujhe ghootan si mehsus hone lagi thee jaise meri tabiyat kharab ho.

मैं संडे का दिन पर काम नहीं करती थी उस दिन मैं सिर्फ आराम करती थी।उस दिन मै स्कूटी लेकर साम के 4 बजे निकली बाजार के लिए और मुझे कुछ कपडे और सामान लेने थे तो सब कुछ खरीदारी करते-करते शाम के 6 बज ही गए तो मैं घर के लिए निकल पड़ी तो मैं जैसे ही रोड पर पहुंची स्कूटी लेकर मुझे घुटन सी महसूस होने लगी थी जैसे मेरी तबियत ख़राब हो।

Read More

Mein wahi par ruki aur paani pine lagi tabhi mene dekha ki kuch hi duri par ek safed saadi pehni lady raste par ghum rahi hai aur uske lambe-lambe baal pura chehra par hai…Yeh nazara dekh mein thoda ghabra gayi aur mere dimaag mein khayal aaya ki koi prank video bana raha hai par tajjub ki baat yeh thee ki uss safed saadi pehni lady ke paas koi bhi cameraman nahi thaa.

मैं वही पर  रुकी और पानी पिने लगी तभी मैने देखा की कुछ ही दुरी पर एक सफ़ेद साड़ी पहनी लेडी  रास्ते पर घूम रही है और उसके लम्बे-लम्बे बाल पूरा चेहरे पर है।यह नज़ारा देख मैं थोड़ा घबरा गयी और मेरे दिमाग में ख्याल आया की कोई प्रैंक वीडियो बना रहा है पर ताज्जुब की बात यह थी की उस सफ़ेद साडी पहनी लेडी के पास कोई भी कैमरामैन नहीं था।

Road par kai sare log jaa rahe thee toh mujhe dar toh utna nahi lag raha thaa but thoda toh dar lag hi raha thaa.Mein himmat karke scooty ko raftaar se aage lekar gayi aur uss lady ko paar karke mein aage chali gayi toh mene ek rahat ki saans li aur thodi hi duri par mujhe laga ki meri scooty par koi betha hai aur mujhe tab se ghootan si mehsoos hone lagi mene yeh sab ignore kiya aur scooty chalane lagi jaise mein ghar pahuchne wali thee tabhi mene apne scooty ki side mirror se dekha ki wahi lady mere scooty par bethi hai mein bahut dar gayi aur mere haat aur per kaanpne lage dar ke mare.Meri scooty tabhi band ho gayi aur mujhe laga ki aaj toh mein gayi but tabhi mene bhagwaan ka name liya aur scooty ko rok diya,mein scooty se utri aur uss lady se pucha aap mere scooty par kab bethi aur kyu bethi ho.Naa jane itni himmat mere andar kaha se ah gayi hai.Mene uss lady ko bahut hi achi tarah kaha hai aap kaha jaogi toh wo kuch nahi keh rahi thee.

रोड पर कई सारे लोग जा रहे थे तो मुझे डर तो उतना नहीं लग रहा था पर थोड़ा तो डर लग ही रहा था।मै हिम्मत करके स्कूटी को रफ़्तार से आगे लेकर गयी और उस लेडी को पार करके मै आगे चली गयी तो मैने एक राहत की साँस ली और थोड़ी ही दुरी पर मुझे लगा की मेरी स्कूटी पर कोई बैठा है और मुझे तब से घुटन सी महसूस होने लगी मैने यह सब इग्नोर किया और स्कूटी चलाने लगी जैसे मैं घर पहुचने वाली थी तभी मैने अपने स्कूटी की साइड मिरर से देखा की वही लेडी मेरे स्कूटी पर बेठी है में बहुत डर गयी और मेरे  हाथ और पैर काँपने लगे डर के मारे।मेरी स्कूटी तभी बंद हो गयी और मुझे लगा की आज तो मैं गयी पर तभी मैने भगवान का नाम लिया और स्कूटी को रोक दिया,मैं स्कूटी से उतरी और उस लेडी से पुछा आप मेरे स्कूटी पर कब बेठी और क्यों बेठी हो।ना जाने इतनी हिम्मत मेरे अन्दर कहा से आ गयी है।मैने उस लेडी को बहुत ही  अच्छी तरह कहा है आप कहा जाओगी तो वो कुछ नहीं कह रही थी।

Mein apni band padi scooty ko haath se dhakel kar le jaane lagi aur wo lady bhi mera picha karne lagi toh meine isko ignore kiya aur mene papa ko call karke ghar se bahar aane ko kaha papa toh jaldi hi ghar se bahar ah gaye aur mein bhi ghar pahuch gayi.Papa ne mujhse pucha ki yeh lady kon hai mene papa se kaha nahi pata mera picha kar rahi hai bahut time se jab se mein market se aayi hu.

मैं अपनी बंद पड़ी स्कूटी को हाथ से धकेल कर ले जाने लगी और वो लेडी भी मेरा पीछा करने लगी तो मैंने इसको इग्नोर किया और मैने पापा को कॉल करके घर से बहार आने को कहा पापा तो जल्दी ही घर से बाहार आ गए और मै भी घर पहुँच गायी।पापा ने मुझसे पुछा की यह लेडी कौन है मैने  पापा से कहा नहीं पता मेरा पीछा कर रही है बहुत टाइम से जब से मैं मार्किट से आई  हूं।

Wo gurra rahi thaa papa ko dekh kar mene uss lady ko kaha ki nikal idhar se warna kaan ke niche ek tamacha dungi.Uss lady ne apne chehre se baal hataya toh woh nazara bahut hi darawna thaa kyuki uske dono ankh toh thee hi nahi aur mooh roti jaisa gol thaa.Papa yeh nazara dekh dar gaye aur kehne lage sweta ghar chalo mein toh maani nahi aur road par khub chillane lagi tabhi road par bheed jama ho gayi aur uss lady ko toh kuch logo ne dekha.Jab unn logo ne yeh nazara dekha toh sab dar gaye aur tabhi wo lady waha se gayab ho gayi hai.Fir mein aur papa ghar ah gaye aur mammi ko saari baat batayi mammi toh dar hi gayi aur kehne lagi ki beti tumme itna himmat kaise ah gaya mene kaha bhagwan mere sath hai.Iss ghatna ke kuch dino baad mujhe uss lady se fir se saamna hua,jab mein raat ke 1 baje ghar ah rahi thee uss waqt toh achanak meri scooty band ho gayi aur wo darawni lady dikhi,iss time toh mein bahut hi jyada dar gayi thee kyuki raat ke 1 baj rahe thee aur pura road sunsaan thaa.Wo lady kaafi gusse mein thee aur usne achanak mere baal pakde aur scooty se nicha gira diya aur ghasit kar mujhe sadak ke kinare le jane lagi.Uska haath itna takatwar thaa ki mein chuda tak nahi paa rahi thee,meine apne bhagwan tak ko bhi yaad kiya jisse meri himmat toh badi par mein uske changul se chutna chahti thee par chut nahi paa rahi thee.

वो गुर्रा रही था पापा को देख कर मैने उस लेडी को कहा की निकल इधर से वरना  कान के निचे एक तमाचा दूंगी।उस लेडी ने अपने चेहरे से बाल हटाया तोह वह नज़ारा बहुत ही डरावना था क्योंकि उसके दोनों आंख तो थी ही नहीं और मुंह रोटी जैसा गोल था।पापा यह नज़ारा देख डर गए और  कहने लगे स्वेता घर चलो  मैं तो मानि नहीं और रोड पर खूब चिल्लने लगी तभी रोड पर भीड़ जमा हो गयी और उस लेडी को तो कुछ लोगो ने देखा।जब उन् लोगो ने यह नज़ारा देखा तो सब डर गए और तभी वो लेडी वहा से गायब हो गयी है।फिर मै और  पापा घर  आ गए और मम्मी को  सारी बात बतायी मम्मी तो डर ही गयी और  कहने लगी की बेटी तुममे इतना हिम्मत कैसे आ गया मैने कहा भगवन मेरे साथ है।इस घटना के कुछ दिनों बाद मुझे उस लेडी से फिर से सामना हुआ,जब मै रात के 1 बजे घर आ रही थी उस वक़्त तो अचानक मेरी स्कूटी बंद हो गयी और वो डरावनी लेडी दिखी, उस  समय तो मैं बहुत ही ज्यादा  डर गयी थी  क्योंकि रात के 1 बज रहे  थे और पूरा रोड सुनसान था।वो लेडी काफी गुस्से में थी और उसने अचानक मेरे बाल पकड़े और स्कूटी से नीचे गिरा दिया और घसीट कर मुझे सड़क के किनारे ले जाने लागी।उसका हाथ इतना ताकतवर था की में छुड़ा तक नहीं पा रही थी,मैंने अपने  भगवान तक को भी याद किया जिससे मेरी हिम्मत तो बड़ी पर मैं उसके चँगुल से छूटना चाहती थी पर छूट नहीं पा रही थी।

Mene uss lady se kaha mujhe chod do mujhe bahut dard ho raha thaa par wo mujhe ghasit kar le jane lagi tabhi mujhe maloom huya ki chudail ki choti kaatne par unki shaktiya khatm ho jati hai aur wo kuch nahi kar paate hai.Mein ek toh dard se chilla rahi thee kyuki wo mere sir ke baalo ko pakad kar ghasit rahi thee tabhi mere pant ki jeb par ek chota sa chaku thaa kyuki mein itni raat ko ghar aati thee isliye safety ke liye rakhtu hu.Mein jaise-taise uske changul se bachi aur uske baalo ko pakad kar kaat diya.Wo chudail dahar maar rahi thee par mene uske pure sir ke baal ko hi uda diya aur wo lady aur uske baal gayab ho gaye.

मैंने उस लेडी से कहा मुझे छोड़ दो मुझे बहुत दर्द हो रहा था पर वह मुझे घसीट कर ले जाने लगी तभी मुझे मालूम हुआ की चुड़ैल की चोटी काटने पर उनकी शक्ति ख़त्म हो जाती है और वो कुछ नहीं कर पाते है।मैं एक तो दर्द से चिल्ला रही थी क्योंकि  वह मेरे सर के बालो को पकड़ कर घसीट रही थी तभी मेरे पैंट की  जेब पर एक छोटा सा चाकू था क्योंकि  मैं इतनी रात को घर आती थी इसलिए सेफ्टी के लिए रखती  हू।मै जैसे-तैसे उसके चँगुल से बच्ची और उसके बालो को पकड़ कर काट दिया।वह चुड़ैल  दहाड़ मार रही थी पर मैने उसके पुरे सर के बाल को ही उदा दिया और वो लेडी और उसके बाल गायब हो गए।

Mein bahut dar gayi thee par apne-aap ko sambhala aur ghar pahuchi mene apne maa aur papa ko saari ghatna batayi aur mene faisla liya ki mein call center ki job chod dungi aur meine call center ki job chod di.Kuch time baad mujhe ek acha job ka offer aaya mein woh job karne lagi hu.

मैं बहुत  डर गयी थी पर अपने-आप को सम्भाला और घर पहुंची मैने अपने माँ और पापा को  सारी घटना बतायी और मैने फैसला लिया की मैं कॉल सेंटर की जॉब छोड़  दूंगी और मैंने कॉल सेंटर की जॉब छोड़  दी।दी कुछ समय बाद मुझे एक  अच्छा जॉब का ऑफर आया  मैं वह जॉब करने लगी हूं।

Yeh thee meri bichitra kintu darawni kahani jo thee ekdum satya kahani.Ab kisi tarah ki koi bhi ghatna kisi ke sath bhi ghat sakti hai iske liye taiyaar toh koi nahi hota par paristithi aisi hoti hai ki hume taiyaar hona padta hai.

यह थी मेरी विचित्र किन्तु डरावनी कहानी जो थी एक दम सत्य कहानी।अब किसी तरह की कोई भी घटना किसी के साथ भी घट सकती है इसके लिए तैयार तो कोई नहीं होता पर परिस्तिथि ऐसी होती है की हमें तैयार होना पड़ता है।

Agar apko story pasand aaye toh share jarur kare.

1 COMMENT

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here