Kunwari Ladkiyo Ko Bash Mein Karne Wala Saitaan

0

Hi friends mein yanshu priya, Aaj mein apko sabse darawni or sachchi ghatna ke bare me btana chahti hu, jisko Mai kabhi bhi bhul nahi sakti.yeh story itni bhayaanak hai ki isko soch kar hi har kisi ki rooh kaanp uthegi.

हाई फ्रेंड्स मै यांशु प्रिया, आज मै आपको सबसे डरावनी और सच्ची घटना के बारे में बताना चाहती हु, जिसको मै कभी भी भुल नहीं सकती।यह स्टोरी इतनी भयानक है की इसको सोच कर ही हर किसी की रूह काँप उठेगी।

Kunwari Ladkiyo Ko Bash Mein Karne Wala Saitaan
Kunwari Ladkiyo Ko Bash Mein Karne Wala Saitaan

Ye ghatna uss wakt ghati thi jb Mai inter me padhti thi, sari friends college ke baad tution or phir ghar jakar padhai karte the. Yese hi mere hi college ki sare students ki dincharya bni hui thi.Yese hi ek din hum tution se ghar a chuke the or dusro ki tution class start hogi. Usi me meri ek janpahchan ki ladki bhi tution padhati thee.Dopahar ke 12:00pm ho rhe the achank wo ldki ko kuch hone lga or wo ajeeb sa harkatein krne lgi, kisiko kuch samajh me nahi aah raha tha ki uske sath ho kya raha hai. Tab sir ne kaha ki isse ghar le jao kyuki unhe bhi nhi pta Tha ki kya kare yese me ghar bhejna hi thik laga unhe. Ghar uski friend ne pahuchaya uss ladki ko.

ये घटना उस वक्त घटी थी जब मै inter में पढ़ती थी, सारी फ्रेंड्स कॉलेज के बाद टूशन और फिर घर जाकर पढाई करते थे। ऐसे ही मेरे ही कॉलेज की सारे स्टूडेंट्स की दिनचर्या बनी हुई थी।ऐसे ही एक दिन हम टूशन से घर  आ चुके थे और दूसरो की टूशन क्लास स्टार्ट होगी। उसी में मेरी एक जानपहचान की लड़की भी टूशन  पढ़ती थी।दोपहर के 12:00pm हो रहे थे अचानक वो लड़की को कुछ होने लगा और वो अजीब सा हरकतें करने लगी, किसी को कुछ समझ में नहीं आ रहा था की उसके साथ हो क्या रहा है।  तब सर ने कहा की इसे घर ले जाओ क्योंकि उन्हें भी नहीं पता था की क्या करे ऐसे में घर भेजना ही ठीक लगा उन्हें। घर उसकी फ्रेंड ने पहुचाया उस लड़की को।

Ghar pahuchne ke baad bhi koi farak nhi padha use, wahi harkatein kare jaa rahi thee wo. Uske parents me se uski Maa, didi, or bhaiya the sabhi usko lekar presan hone lge. Tabhi uss ladki ke bhai ke friend ne usse dekh kar kaha ki isse pandit ya ojha ko dikhana hoga kyuki uske body ke koi bones tak mehsus nahi ho rahe thee uske bhai ke chune se. Sabhi dar gaye the ladki apne hanth tak ulta moor rahi thee or pair bhi ulta kar de rahi thi jaise ki uske body me koi bones ho hi nhi. Yeh baat jakar aas pass ke logo ka bheer jama ho gya usme Mai bhi thee. Or yehsab main apni aankhon se dekh rahi thee bahut hi bhayanak najara tha, aap yakin hi nhi kar sakte hai ki yesa bhi ho sakta hai,hum sab bahut dar gaye the.

घर पहुचने के बाद भी कोई फरक नहीं पड़ा उसे, वही हरकतें करे जा रही थी ओ। उसके पेरेंट्स में से उसकी  मां,  दीदी, और भैया थे सभी उसको लेकर परेशान होने  लगे। तभी उस लड़की के भाई के फ्रेंड ने उससे देख कर कहा की इसे पंडित या ओझा को दिखाना होगा क्युकी उसके बॉडी के कोई बोन्स तक मेहसुस नहीं हो रहे थी उसके भाई के  छूने से। सभी  डर गए थे लड़की अपने हाँथ तक उलटा मोड रही थी और  पैर भी उल्टा कर दे रही थी जैसे की उसके बॉडी में कोई बोन्स हो ही नही। यह बात जाकर आस पास के लोगो का भीड़ जमा हो गया उसमे मै भी थी। और यहां सब मैं अपनी आँखों से देख  रही थी बहुत ही भयानक नजारा  था, आप यकीन ही नहीं कर सकते है की ऐसा भी हो सकता है,हम सब बहुत दर गए  थे।

Kuch samay ke baad molwiyo ka bheer bhi ekatha Hua par kisi ne iss ladki ko thek nhi Kar paye. Thak harne ke baad kisi ne kaha ki Champaran ke ek ojha hai jo bhut hi pahuche Hua ojha hai unse koi bhi bhooot pret bach nahi paya hai. Tab kya tha us ladki ke bhai ne bulawa bhej diya unhe. Unke aane ke baad ilaaj suru ho gaya us ladki ka. Aap biswas nahi kar sakte unhone us ladki ko chua tk nahi or unke aane se uske andar ka saitan darne laga bina dekhe hi. Bas kya tha raat ko mandir ke pass baramde me usse sindur or roli ke ghere me baithaya gaya taki wo bahar nikal na paa sake. Usse us ghere me baithane ke liye Dass aadmi lage tab jakar use baithaya ja saka, Batadu main ki us ladki ki age sirf 17th hi thee.

कुछ समय के बाद मोलवियों का भीड़ भी एकठा हुआ पर किसी ने इस लड़की को ठीक नहीं कर  पाया।  थक  हारने के बाद किसी ने कहां की चम्पारन के एक ओझा है जो बहुत ही पहुचे हुई ओझा है उनसे कोई भी भूत प्रेत बच नहीं पाया है। तब क्या था उस लड़की के भाई ने बुलावा भेज दिया उन्हें। उनके आने के बाद इलाज शुरु हो गया उस लड़की का। आप  विश्वास नहीं कर सकते उन्होंने उस लड़की को छुआ तक नहीं और उनके आने से उसके अन्दर का शैतान डरने लगा बिना देखे ही। बस क्या था रात को मंदिर के पास बारामदे में उससे सिन्दुर और रोली के घेरे में बैठया गया ताकि वो बहार निकल ना पा  सके। उसे उस घेरे में बैठने के लिए दस् आदमी लगे तब जाकर उसे बैठाया जा सका,  बता दूं मैं की उस लड़की की उम्र सिर्फ 17th ही थी।

Puja suru hone se pehle ek shart rakhi hui thee or wo ye the ki koi bhi ladki ya aurat us jagah ke aas pass bhi nahi honi chahiye kyuki saitan kunwari ladki ke body me jaa sakta thaa.
Phir Kya tha suru ho gaya puja bina chuye hi ladki tadapne lagi or mat karo Chillane lagi, uske awaj me ek nhi 8 logon ke awaj ane lagi. Kabhi wo ek awaj me to kabhi dusri awaaj me bolti thee. Hum sab ko to waha ke ladko ne ye bataya. Us ladki ki surat bhi uski nahi dikh rahi thee lag raha tha ki turant – turant uski surat badal rhi thee. Aakhir kaar us ladki ke sharir se wo saitaan bhaag gaya par jate jate kah gaya ki phir se wo kisi kunwari ladki ke sharir me ghusega tab koi bhi use bhaga nahi payega. Aj wo ladki or uska pariwaar shukh se hai par is ghatna ke baad sabhi logo ke pariwar dare huye the or apni apni kunwari ladkiyo ko tabij pehna chuke thee. Uske baad yesi koi ghatna nahi hui.

पूजा शुरु होने से पहले एक शर्त रखी हुई थी और वो ये थे की कोई भी लड़की या औरत उस जगह के आस पास भी नहीं होनी चाहिए क्योंकि शैतान  कुंवारी लड़की के बॉडी में जा सकता था।फिर क्या था शुरु हो गया पूजा बिना छुये ही लड़की तडपने लगी और मत करो चिल्लने लगी, उसके आवाज में एक नहीं 8 लोगों के अवाज  आने  लगी। कभी वो एक अवाज में तो कभी दूसरी आवाज में बोलती थी। हम सब को तो  वहां के लड़को ने ये बताया। उस लड़की की सुरत भी उसकी नहीं  देख रही थी लग रहा था की तुरंत – तुरंत उसकी सूरत बदल रही थी। आखिर कार उस लड़की के शरीर से वो सैतान भाग गया पर जाते जाते कह गया की फिर से वो किसी कुंवरि लड़की के शरीर में घुसेगा तब कोई भी उसे भगा नहीं पायेगा। आज वो लड़की और उसका परिवार सुख से है पर इस घटना के बाद सभी लोगो के परिवार डरे हुए थे और अपनी अपनी कुंवारी लड़कियों को ताबीज पहना चुके थी। उसके बाद ऐसी कोई घटना नहीं हुई।

Agar aap meri pichli story read karna chahte hai toh yeh padhe:

Ghost House Ki Woh Bhyaanak Raat

Agar aapko story pasand aaye toh share jarur kare aur story kaisi lagi comment mein bataye.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here