Office Par Raat Ke Andhere Mein Darawni Chudail Ka Bhayaanak Kahar

0

Mera name sunita singh hai aur mein delhi mein rehti hu.Aaj se 5 saal pehle mere sath ek bahut hi darawni ghatna ghati jisko yaad karke mera dil dahal jata hai.Aap sabke samne mein apni darawni kahani bata rahi hu aasa karta hu aap sab ko meri story aap sab ko pasand aaygi.

मेरा नाम सुनीता सिंह है और मैं दिल्ली में  रहती  हु।आज से 5 साल पहले मेरे साथ एक बहुत ही डरावनी घटना घटी जिसको याद करके मेरा दिल दहल जाता है।आप सबके सामने मैं अपनी डरावनी कहानी बता रही हूँ आसा करता हूँ आप सब को मेरी स्टोरी आप सब को पसंद आयगी।

Office Par Raat Ke Andhere Mein Darawni Chudail Ka Bhayaanak Kahar
Office Par Raat Ke Andhere Mein Darawni Chudail Ka Bhayaanak Kahar

Jab mein 22 saal ki thee tab meine ek bade office mein job ke liye apply kiya thaa aur jald hi mujhe job par approve mil gyi thee.Mein itni khush thi ki aap sab ko likh kar byaan nahi kar sakti.Mein apne office jane lagi aur mera time ache se kat rahi thii.Mere office join kiye huye 5 month ho gaye thee aur mein bahut hi lagan se kaam karti thee jiske chalte mera promotion ho gya tab toh mein bahut hi khush thii fir aise hi 2 month aur guzar gayi.

जब मैं 22 साल की थी तब मैंने एक बड़े ऑफिस में जॉब के लिए अप्लाई किया था और जल्द ही मुझे जॉब पर अप्प्रोव मिल गई थी।मैं इतनी खुश थी की आप सब को लिख कर ब्यान नहीं कर सकती। मैं अपने ऑफिस जाने लगी और मेरा टाइम अच्छे से  कट रही थी।मेरे ऑफिस ज्वाइन किये हुए 5 महीने हो गए थे और मैं बहुत ही लगन से काम करती थी जिसके चलते मेरा प्रमोशन हो गया तब तो मैं बहुत ही खुश थी फिर ऐसे ही 2 महीने और गुजर गई।

Jab mein junior post par thee tab mujhe office par jyada work nahi karna padta thaa aur ab jaise hi promotion huya tab mujhe thoda sa jyada hard work karna padta thaa aur karu bhi kyu naa paise bhi ache-khaase milte thee aur woh bhyanak raat aah hi gaya jiske karan meine yeh story likha.

Read More

जब मैं जूनियर पोस्ट पर थी तब मुझे ऑफिस पर ज्यादा काम नहीं करना पड़ता था और अब जैसे ही प्रमोशन हुआ तब मुझे थोड़ा सा ज्यादा हार्ड वर्क करना पड़ता था और करू भी क्यों ना पैसे भी अच्छे-खासे मिलती थी और वह भयानक रात आ ही गई जिसके कारन मैंने यह स्टोरी लिखा।

Huya yuh ki ek din mein office thoda late se pahuchi toh uss din kaam ache se nahi ho paa raha thaa aur kaam itni thi ki mujhe overtime hi karna pada uss din.Dheere-Dheere time bitne laga Aur saam ke 5pm se 6pm ho gaye aur sabhi chale gaye aur mera kaam karte huye saam ke 7:30pm ho rahe thee aur kaam khatm hi hone wali thee ki tabhi achanak se meri sabhi files gir gayi aur mein jaise unn files ko uthane lagi tabhi mere samne ki table hilne lagi lights bhi off on hone lagi jisko dekh kar mein daurte huye darwaze ki taraf bhaagi aur darwaaza apne aap band ho gya jiske chalte mein bahut jor se chikhi aur Office Par Raat Ke Andhere Mein Darawni Chudail Ka Bhayaanak Kahar ho gyi.

हुआ यह की एक दिन मैं ऑफिस थोड़ा लेट से पहुंची तो उस दिन काम अच्छे से नहीं हो पा रहा थथी और काम इतनी थी की मुझे ओवरटाइम ही करना पड़ा उस दिन।धीरे-धीरे  समय बीतता गया और शाम के 5 pm से 6 pm हो गए और सभी चले गए और मेरा काम करते हुए शाम के 7:30 pm हो रही थी और काम ख़त्म ही होने वाली थी की तभी अचानक से मेरी सभी फाइल्स गिर गयी और मैं जैसे उन् फाइल्स को उठाने लगी तभी मेरे सामने की टेबल हिलने लगी लाइट्स भी आफ होने लगी जिसको देख कर में दौड़ते हुए दरवाज़े की तरफ भागी और दरवाज़ा अपने आप बंद हो गया जिसके चलते मैं बहुत जोर से चीख़ी और  बेहोश हो  गई।

Jab meri ankhe khuli tab mein jamin par leti thi aur mere samne ek safed saadi pehni huyi lady jiske baal jameen tak thee aur uske per ulte thee jisko dekh mere ankho ke samne andhera chaa gaya aur meri haalat itni kharab thi ki mein hilne layak nahi thee aur mere muh se toh awaaz bhi nahi nikal rahi thi aur mein fir se behosh ho gyi thi aur jab meri ankh khuli tab mein office ke chair par bethi thi aur mere papa mere office par thee aur sabhi log office par thee aur subah ke 9 baj rahe thee.

जब मेरी आंखे खुली तब मैं जमीन पर  लेटी थी और मेरे सामने एक सफ़ेद साडी पेहनी हुयी लेडी जिसके बाल जमीन तक थी और उसके पैर उलटे थे जिसको देख मेरे आँखों के सामने अँधेरा छा गया और मेरी हालत इतनी ख़राब थी की मैं हिलने लायक नहीं थी और मेरे मुह से तो आवाज़ भी नहीं निकल रही थी और मैं फिर से  बेहोश हो गई थी और जब मेरी आंख खुली तब मैं ऑफिस के चेयर पर बेठी थी और मेरे पापा मेरे ऑफिस पर थे और सभी लोग ऑफिस पर  थे और सुबह के 9 बज  रही थी।

Jaise hi mein hosh mein aayi papa se kehne lagi yaha bhoot hai bhoot aur pagalo ki tarah harkat karne lagi jiske chalte mujhe hospital mein admit karwaya gaya aur kuch din ke baad mein ghar ah gayi aur mene meri maa ko saari ghatna batayi aur mammi ne papa ko sab baat bataya.Papa ne unn sari ghatna ko ek jyotish ko bataya tabhi uss jyotish ne papa se kaha mein apko sari ghatna apke ghar mein batayungi.

जैसे ही मैं होश में आई पापा से केहने लगी यहाँ भूत है भूत और पागलो की तरह हरकत करने लगी जिसके चलते मुझे हॉस्पिटल में एडमिट करवाया गया और कुछ दिन के बाद मैं घर  आ  गई और मैने मेरी माँ को सारी घटना  बताई और मम्मी ने  पापा को सब बात बताया।पापा ने उन्  सारी घटना को एक ज्योतिष को बताया तभी उस ज्योतिष ने पापा से कहा मैं आपको  सारी घटना आपके घर में बतायुंगी।

Jyotish ji hamare ghar aaye aur usne kuch ganana kiya aur bataya ki mere sath kya-kya huya uss jyotish ne jo bataya sab sahi thaa aur usne mujhse kaha tumhare sath jo ghatna ghati uspe tumhe bahut hi gehre chote aati par tumhari kismat se tum bach gayi aur tumhare sath bhavisya mein kuch bhi bura hone ki koi aasa nahi hai aur jyotish ne bataya tumne jis aatma ko dekhi wo aatma tumhare office se guzar rahi thi aur tumhe akela pakar aisa kiya.Jyotish ne mujhse uss office ko chod dene ko kaha aur ek taabiz diya jisko meine gale mein bandha aur uss office ko chod diya aur mein abhi new office par work kar rahi hu wo bhi sabse senior post par hu.

ज्योतिष जी हमारे घर आये और उसने कुछ गणना किया और बताया की मेरे साथ क्या-क्या हुआ उस ज्योतिष ने जो बताया सब सही था और उसने मुझसे कहा तुम्हारे साथ जो घटना घटी उसपे तुम्हे बहुत ही गेहरे चोटी आती पर तुम्हारी किस्मत से तुम बच गयी और तुम्हारे साथ  भविष्य  मे कुछ भी बुरा होने की कोई आसा नहीं है और ज्योतिष ने बताया तुमने जिस आत्मा को देखी वह आत्मा तुम्हारे ऑफिस से गुज़ार रही थी और तुम्हें अकेला पाकर ऐसा किया।ज्योतिष ने मुझसे उस ऑफिस को छोड़ देने को कहा और एक ताबीज दिया जिसको मैंने गले में बांधा और उस ऑफिस को छोड़ दिया और में अभी नई ऑफिस पर वर्क कर रही हूँ वो भी सबसे सीनियर पोस्ट पर हु।

Agar apko story pasand aaye toh share jarur kare aur aapko story kaisi lagi commemt karke jarur bataye.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here