Real Haunted/Horror Story in Hindi

Real haunted/horror story in hindi – हैलो दोस्तों मैं हूँ  दिपक और मैं मध्यप्रदेश का रहने वाला हूं। आज मैं आपके साथ अपने साथ बीती एक बहुत ही डरावनी घटना शेयर करने जा रहा हूं । यह घटना 6 महिना पहले की है मैं चाहता था की मैं अपने साथ घटी यह घटना अगले दिन ही शेयर कर दूं पर मैं इतना ज्यादा डर गया था कि मैं शेयर ही नहीं कर पाया।

Real Haunted Horror Story in Hindi

मैं उस घटना से बहुत ज्यादा ही डर गया था और आज भी मैं अकेले रात को कहीं जाने से डरता हुं । आप सोच रहे होंगे की मै तो बहुत फट्टू हूं पर अगर आपके साथ यह घटना घटती तो पता चलता की डर क्या होती है घटना 2017 का है बरसात का मौसम था । उस दिन मेरे एक दुर के रिस्ते वाले भाई की शादी थी । मैं अपने उस भाई की शादी अटैंड करने सुबह 10 बजे से चला गया था । मैं वहां पहुंच तो गया पर वहां मैने जैसे तैसे करके 1 घंटा समय बिताया पर उसके बाद मुझे बोर लग गया । वहां कोई ऐसे लडके नहीं दिख रहे थे जिनसे मैं बात कर सकूं इसलिए मैं कुछ -कुछ काम में हाथ बंटाने लगा।

ऐसे करते करते दोपहर के 3 बज गए । मौसम बरसात का था इसलिए समय का पता नहीं चला । बरसात के महिने में ज्यादा धुप नहीं होता इसलिए समय का पता नहीं चला । उसके बाद खाना – पिना करके फिर इधर उधर टहल के देखा तो कुछ लडके दिखे पर वे मुझे अच्छे नहीं लगे इसलिए मैं 7 बजे तक अकेले ही घुम रहा था । मुझे लगा मुझे घर जाना चाहिए इसलिए मैं उनसे बहाना बनाकर घर जाने के लिए राजी कर लिया पर मुझे क्या पता आज का दिन इतनी डरावनी होगी।

करीब रात के 8 बज चुके थे मेरे घर का रास्ता करीबन 2:30 घंटे का था । मैं वहां से निकल गया मै थोडे स्पीड से बाईक चला रहा था क्योंकि सुबह से मौसम खराब थी मैं नही चाहता था कि पानी गिरे और मैं भिग जाऊं । थोडे दुर चलने के बाद थोडी सुनसान जगह थी । मुझे डर तो बस इसी बात का लग रहा था की कहीं पानी न गिर जाए । कुछ दुर जाने पर मुझे रास्ते में दो लडकियां दिखी जो बस स्टॉप  के पास खडी थी । बस स्टॉप एक चौक पर थी जो पास के ही गांव से 1 किलोमीटर दूर पर था । मैं थोडे स्पीड में था तो थोडे से आगे क्रॉस हुआ तो थोडे हैरानी के साथ पिछे मुडकर लड़कियों को देखा की इतनी रात को ये कर क्या रहीं हैं पर मै जैसे ही पिछे मुडा तो देखा तो वे दोनो रोते रोते मुझे रूकने के लिए चिल्लाते हुए दौड रही थीं।

मैने अपने बाइक रोकी वे पास आए तो मैने उनसे पूछा की इतनी रात को यहां क्या कर रहे हो ! तो बडी लडकी रोते रोते बताई की उनकी बस छुट गई है वे लिप्ट का इंतजार कर रही हैं क्या हमें पास के गांव में छोड दोगे मेरा गांव का रास्ता सिधी मेन रोड में थी पर उनका गांव दुसरे ओर थोडे कटकर गई थी । मुझे उनपर थोडी दया आ गई उतने में बारिश होने लगी मैं जल्दी से उन्हें बैठने के लिए कहा और स्पीड से बाइक चलाता हुए उनके गांव पहुंच गया बारिश तेज हो रही थी तो उन्होंने मुझे बारिश कम होने तक रूकने को कहा तो मैं रूक गया।

थोडी देर बाद 1 करीब 90-100 साल की बुढिया सामने आई उसका चेहरा बडा डरावना था मैं उसे देखकर ही डर गया । मैने डरकर उनसे कहा की मैं जा रहा हूं आंटी घर पहुंचने में समय लग जाऐगा आपके बेटीयों को बता देना । वैसे तो वो कुछ बोली नहीं मै डरकर चुपचाप वहां से निकल लिया । जैसे तैसे घर पहुंचा मैं पुरी तरह भिग गया था मैं कपडे बदले और सो गया उस दिन थकान की वजह से जल्दी निंद लग गई । कुछ दिन तक सामान्य ऐसे ही सबकुछ चलने लगा पर कुछ दिन बाद मम्मी को उसी गांव में कुछ काम से जाना था तो मैं राजी हो गया और हम उस गांव पहुंच गए जैसे ही मैं उस गांव पहुंचा गांव को देखकर जैसे मेरे उपर बिजली ही गिर पडी मैं बहुत ज्यादा डर गया मेरे हाथ पैरांपने लगे और मैं बेहोस हो गया ।

मम्मी उस गांव में पहले भी जा चुकी थी इसलिए उन्हें गांव के बारे पता था वो बहुत ही घबरा गई थी मुझे एक झाड -फुंक करने वालेे पास ले गई । जैसे ही मेरी आंख खुली तब मां ने पूछा की बेहोश कैसे हो गया तो मैने बोला वहा स्थान जहां लोगों को दफनाया जाता है वहां मै कल रात को दो लडकियाों को छोडने गया था तो वहां अच्छा सा एक घर देखा था पर यहां कब्र नहीं थी और वो घर तो बुरी तरह टूटी फूटी घर है । उसके बाद तांत्रिक ने मुझे बताया की वह गांव 2 लडकियों और 1 बुढी महिला की आत्मा से डरकर 6 बजे बाद घर से नहीं निकलते । कब्र के पास जो खंडहर है वो उन तीनों का घर था एक दिन जब बुढी महिला जंगल से लौट रही थी तो उसने घर में देखा की उसकी दोनो बेटी आपत्तिजनक हालत में मृत पडी हैं वो रो रो कर पुरे गांव वालों को कोश रही थी । कुछ देर बाद वो चिल्ला तो रही थी पर उसके मुंह से आवाज नहीं निकल रहा था रात को वो सदमे से मर गई।

अगले दिन गांव वालों ने उसे घर के पास ही दफना दिया पर उसके अगले दिन से ही गांव के लडकों के उपर कहर आ गई जो रात को बाइक से आता है तो दो लडकियां उन्से लिप्ट मांगती है और जो लडके उन लडकियों के साथ गंदी हरकत करने की कोशिश करते हैं उनका Accident हो जाता है वो भी कब्र के पास ही । करीब 10-12 लडकों की मौत के बाद गांव के लडके कहीं नही जाते जितने भी accident होते थे सब एक ही तरिके से होते थे ।वो था मोड में स्पिड का 100 से ज्यादा होना और सभी का गरदन टूटा हुआ।

यह सुनने के बाद मैं दोबारा बेहोश हो गया जब आंख खुली तो मैं अस्पताल में 1 दिन से एडमिट था हम सभी उस घटना के बाद शहर में shift हो गए ।आप जो भी सोचें फर्क नहीं पडता पर मैं आपसे एक बात कहना चाहूंगा कोई मूवी या पुस्तक में कहानी पडने से जितना डर नहीं लगता उससे ज्यादा डर तब लगता है तब खुदका सामना हो कभी इस स्टोरी को पढने के बाद 9 बजे अकेले 50 किलोमीटर का यात्रा करके देखो डर क्या होता है पता चल जाएगा।

उम्मीद करता हुं आपको दिपक की यह रोंगटे खडे कर देने वाली आप बिती घटना (horror story in hindi) आपको अच्छी लगी होगी । यह घटना अगर आपको अच्छी लगी तो कृपया अपने दोस्तों के साथ फेसबुक, वाट्सएप्प में शेयर जरूर करें ।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!