Soorma Movie Review In Hindi – सुरमा मूवी रिव्यु इन हिंदी

2
182

Soorma Movie Ki Suruwat Kaisi Hoti Hai Movie Kaisi Hai Movie Kis Par Aadharit Hai Wo Apni Zindagi Mein Hockey Par Hi Interest Kyu Dikhata Hai Aur Iske Liye Kya-Kya Musibate Aayi Puri Jankari Aapko Iss Post Mein Mil Jayegi.

Soorma Movie Review In Hindi - सुरमा मूवी रिव्यु इन हिंदी

Director Shaad Ali
Stars Diljit Dosanjh, Tapsee Pannu, Angad Bedi
Movie Type Biography, Drama, Sport
Release Date 13 July 2018
Duration 131 minutes

 

कहानी शुरू होती है सन् 1994 के शाहाबाद से, जिसे देश की हॉकी की राजधानी माना जाता था। यह एक छोटा सा कस्बा है, जहां ज्यादातर लोगों का बस यही सपना है कि वह भारतीय हॉकी टीम का हिस्सा बनें। लगभग सभी बच्चे, चाहे वह लड़की हो या लड़का इसी सपने को पाने की दौड़ में शामिल हैं।

युवा संदीप सिंह (दिलजीत दोसांझ) भी इन्हीं लोगों में से एक है, लेकिन स्ट्रिक्ट कोच के कारण उनकी हिम्मत जवाब दे जाती है और वह हॉकी से पल्ला झाड़ लेते हैं। टीनेज तक उनकी जिंदगी से हॉकी गायब रहता है, लेकिन फिर उनके जीवन में हरप्रीत (तापसी पन्नू) की एंट्री होती है, जिससे संदीप को प्यार हो जाता है। हरप्रीत फिर से संदीप में हॉकी के लिए जज्बा पैदा करती है और उसे आगे बढ़ते रहने और खुद को बेहतर बनाने के लिए प्रेरित करती है। इससे एक बार फिर हॉकी प्लेयर बनना संदीप के लिए जीवन का मकसद बन जाता है।

लेखक-निर्देशक शाद अली ने फिल्म के फर्स्ट हाफ में संदीप सिंह के हॉकी प्लेयर बनने की कहानी को दिखाया है, हालांकि, उन्होंने इसमें कस्बे के छोटे-छोटे लम्हों और लीड पेयर के रोमांस को जोड़कर कहानी को बोझिल नहीं होने दिया। इंटरवल से पहले कहानी सीरिअस मोड़ ले लेती है, जो आपको भावुक कर देती है। ‘उड़ता पंजाब’ में दिलजीत की ऐक्टिंग को सराहा गया था, लेकिन ”सूरमा” में उन्होंने जैसा अभिनय किया है वह बेहतरीन है। वह अपने किरदार के हर भाव और लम्हे को जीते और जीवंत करते दिखाई देते हैं। फिल्म में उनकी हॉकी की स्किल्स तारीफ के काबिल दिखती हैं, लेकिन उन्होंने जिस तरह से अपने किरदार को समझा और पर्दे पर जिया, वह सबसे ज्यादा प्रभावित करता है।

तापसी पन्नू हमेशा की तरह ऐक्टिंग के मामले में अपना बेस्ट देती दिखीं, लेकिन उनका किरदार फिल्म के ट्रैक को स्लो करता है। सपोर्टिंग कास्ट के रूप में अंगद बेदी जिन्होंने दिलजीत के बड़े भाई का किरदार निभाया है, शानदार अभिनय करते नजर आए हैं। उन्होंने अपने किरदार को बखूबी पर्दे पर दिखाया है। कुलभूषण खरबंदा और सतिश कौशिक की ऐक्टिंग भी अच्छी है। फिल्म में कई गानें हैं, लेकिन कोई भी गाना इंप्रेस नहीं कर पाता।

नैशनल हॉकी टीम के कैप्टन, अर्जुन अवॉर्ड विनर और एक शख्स जिसे गलती से गोली मार दी गई और फिर भी उसने वापसी की, उसकी कहानी बायॉपिक के रूप में पर्दे पर उतारने के कई फायदे हैं। हालांकि, शाद अली ने जिस तरह से कहानी को दिखाया है, उसमें सिनेमा के लिए जरूरी ड्रामा और सॉलिड सब्जेक्ट मिसिंग दिखता है। फिल्म में हॉकी गेम से जुड़े कई सीन है पर इनमें से कोई भी आपको थ्रिल महसूस नहीं करवाता।

तो अगर आप यह जानना चाहते हैं कि संदीप सिंह की जिंदगी में कब, क्यों, कैसे और क्या हुआ तो ”सूरमा” फिल्म आपके लिए है। यह दिल से जुड़ी एक कहानी है, जो आपके दिल को जीत सकती है। यह फिल्म आपको सच्चाई दिखाती है, लेकिन कहानी में रोमांच की कमी इसे कमजोर बनाती है।

यदि आपको यह पोस्ट अच्छी लगी हो तो अपने दोस्तों के साथ शेयर करें।

2 COMMENTS

  1. Soorma is a wonderful movie just loved it love u Diljit Dosanjh best actor Angad Bedi nice Tapsee Pannu nice everyone watch this movie really good movie.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here